Sunday, October 01, 2006

'भगत सिंह ने कुछ गलत नहीं किया था। कैदियों के कटघरे उस समय राजनीतिक मंच बन गये थे। पूरा देश उनकी वीरोचित ओजस्विता से गूँजने लगा था। उनकी तस्‍वीरें हर शहर और कस्‍बे में बिकने लगी थीं। कुछ समय के लिए लोकप्रियता में वह गांधी जी की बराबरी करने लगे थे।'

  • ब्रिटिश शासन में गुप्‍तचर विभाग के निदेशक सर होरेस विलियम्‍सन की पुस्‍तक इंडिया एंड कम्‍युनिज्‍म से

No comments:

Post a Comment